ग्लोबल वार्मिंग पर हिंदी निबंध – Global Warming Essay in Hindi

ग्लोबल वार्मिंग का अर्थ पृथ्वी की सतह के तापमान में वृद्धि की निरंतर और स्थिर प्रक्रिया है। इससे पृथ्वी की प्रकृति के संतुलन, जैव विविधता और जलवायु परिस्थितियों को प्रभावित किया है। यह एक बड़ी पर्यावरणीय समस्या है जिसका हम आज सामना कर रहे हैं, इसे स्थायी रूप से हल करने की आवश्यकता है। आर्कटिक ग्लोबल वार्मिंग से प्रभावित सबसे खराब जगहों में से एक है।

ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) की परिभाषा – धरती के वातावरण में तापमान के लगातार हो रही विश्वव्यापी बढ़ोतरी को ग्लोबल वार्मिंग कहते हैं।

ग्लोबल वार्मिंग के प्रभावों के कारण 1 मिलियन से अधिक प्रजातियां विलुप्त हो गई हैं। सीओ 2, मीथेन जैसी ग्रीन हाउस गैसें पृथ्वी पर ग्लोबल वार्मिंग को बढ़ाने देने का मुख्य कारण हैं। ये गैसें सीधे तौर पर पिघलने वाली बर्फ की चोटी, बढ़ते समुद्र के स्तर, ग्लेशियरों, अप्रत्याशित बदलती जलवायु को प्रभावित करती हैं। यह अनुमान लगाया गया है कि वैश्विक स्तर पर वायुमंडलीय ग्रीनहाउस गैस के बढ़ने के कारण 20वीं शताब्दी के मध्य से पृथ्वी की सतह का तापमान एक महान स्तर तक बढ़ गया है।

पृथ्वी की सतह का तापमान वर्ष 1983, 1987, 1988, 1989 और 1991 में पिछली सदी के सबसे गर्म छह वर्षों के रूप में मापा गया है। यह ग्लोबल वार्मिंग पृथ्वी पर अप्रत्याशित आपदाओं का कारण बनती है जैसे सुनामी, सूखा, बाढ़, चक्रवात, भूस्खलन, बर्फ का पिघलना, भोजन की कमी, महामारी से होने वाली बीमारियाँ, मृत्यु आदि। ग्लोबल वार्मिंग से अब केवल 25 ग्लेशियर रह गए है जबकि वर्ष 1910 में 150 ग्लेशियर थे।

पृथ्वी की सतह से अधिक पानी के वाष्पीकरण के कारण ग्लोबल वार्मिंग वातावरण में बढ़ रहा है, जो बदले में ग्रीनहाउस गैस बन जाता है और फिर से ग्लोबल वार्मिंग में वृद्धि का कारण बनता है। ग्लोबल वार्मिंग के कुछ अन्य कारण भी हैं जैसे जीवाश्म ईंधन का जलना, उर्वरकों का उपयोग, सीएफसी, ट्रोपोस्फेरिक ओजोन और नाइट्रस ऑक्साइड जैसी अन्य गैसों में वृद्धि का होना। इस तरह के कारणों में से सबसे प्रमुख कारण जनसंख्या में बेतहाशा वृद्धि, औद्योगिक विस्तार की बढ़ती मांग, वनों की कटाई, शहरीकरण के प्रति प्राथमिकता आदि हैं।

वनों की कटाई और ओजोन परत में छेद करने, वैश्विक कार्बन चक्र आदि जैसे तकनीकी उन्नति के माध्यम से पर्यावरण की प्राकृतिक प्रक्रियाएं हमें परेशान कर रही हैं और अल्ट्रा वायलेंट किरणों को इस प्रकार पृथ्वी पर आने की अनुमति दे रही हैं जिससे ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है। पृथ्वी पर पेड़ लगाकर हम हवा से अतिरिक्त कार्बन डाइऑक्साइड को कम कर सकते हैं और संतुलन बना सकते हैं। ग्लोबल वार्मिंग मुक्त वातावरण बनाने के लिए हमें वनों की कटाई को रोकना होगा। जनसंख्या वृद्धि को नियंत्रित करना भी दुनिया भर में ग्लोबल वार्मिंग को कम करने की दिशा में एक बड़ा कदम है क्योंकि यह पृथ्वी पर विनाशकारी प्रौद्योगिकियों के उपयोग को कम करता है। इसलिए हमें ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहिए और अन्य लोगों से अपना समर्थन देने का आग्रह करना चाहिए।

Like The Facebook Page CurrentGK for Current Affairs, Latest GK & Employment News
Web Title : global warming essay in hindi
Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *